Expert in study
Login
alarm
Ask a question
Hindi Sherry
429 cents

हिमालय की बेटियाँ निबंध में लेखक ने हमारा साक्षात्कार नदी के किन चार रुपो से काराया है​

answers: 1
Register to add an answer
The time for answering the question is over
Answer:

Answer:

मेरे नगपति! मेरे विशाल!

साकार, दिव्य गौरव विराट,

पौरुष के पूंजीभूत ज्वाल!

मेरे जननी के हिम-किरीट!

मेरे भारत के दिव्य भाल?

मेरे नगपति! मेरे विशाल!

युग-युग अजेय, निबंध, मुक्त,

युग-युग गर्वोन्नत, नित महान,

निस्सीम व्योम में तान रहा।

युग से किस महिमा का वितान?

कैसी अखंड यह चिर समाधि?

यतिवर! कैसा यह अमर ध्यान ?

तू महाशून्य में खोज रहा

किस जटिल समस्या का निदान ?

उलझन का कैसा विषम जाल?

मेरे नगपति! मेरे विशाल!

ओ, मौन, तपस्या-लीन यती।

पलभर को तो कर दृगुन्मेष।

रे ज्वालाओं से दग्ध, विकल

है तड़प रहा पद पर स्वदेश।

सुखसिंधु, पंचनद, ब्रह्मपुत्र,

गंगा, यमुना की अमिय-धारे

जिस पुष्प भूमि की ओर बही

तेरी विगलित करुणा उदार

मेरे नगपति! मेरे विशाल!

~ रामधारी सिंह दिनकर

494
JonassonR
For answers need to register.
Contacts
mail@expertinstudy.com
Feedback
Expert in study
About us
For new users
For new experts
Terms and Conditions