Expert in study
Login
alarm
Ask a question
Hindi Lois Reed
263 cents

निम्नलिखित वाक्यों को कर्मवाच्य में परिवर्तित कीजियेअ. बालकः कन्यां पश्यति।​

answers: 1
Register to add an answer
The time for answering the question is over
Answer:

Answer:

Explanation:अभिव्‍यक्ति या कथन के प्रकटीकरण की विधा को वाच्‍य कहते हैं। सं

स्‍कृत में

वाच्‍य तीन तरह के होते हैं —

1. करतृवाच्‍य ्

इस वाच्‍य में कर्ता प्रधान होता है तथा क्रिया कर्ता के अनसार प्र ु यक्तु होती है।

इसके कर्ता में प्रथमा विभक्ति तथा कर्म में द्वितीया विभक्ति का प्रयोग होता है।

यथा— राम: गहृ गच्‍छ ं ति।

इस वाक्‍य में ‘राम’ कर्ता और ‘गहमृ ’ क् र्म है। इसकी क्रिया 'गच्‍छति' कर्ता

'राम' के अनसार एक ु वचन की है।

बालिका पाठम प् ठितवती।

इस वाक्‍य में 'बालिका' कर्ता तथा 'पाठम' क् र्म तथा ‘पठितवती’ क्रिया है।

सैनिक: देशं

रक्षति।

इस वाक्‍य में 'सैनिक:' कर्ता, 'देशम' क् र्म तथा 'रक्षति' क्रिया है।

2. कर्मवाच्‍य

कर्मवाच्‍य में कर्म की प्रधानता होती है, अत: कर्म में प्रथमा तथा कर्ता में तती

ृ या

विभक्ति का प्रयोग होता है। यहाँ क्रिया का प्रयोग कर्म के अनसार होता

ु है। जिस

लिङ्ग, परुष तथा

ु वचन में कर्म होता है, उसी लिङ्ग, परुष तथा

ु वचन में क्रिया

का प्रयोग होता है।

यथा— रामेण गहृ गम्‍यते। ं

विद्यार्थिना पाठ: पठ्यते।

मया चित्रे दृश्‍येते।

वाच्‍य परिवर्तन

एकादश अध्‍याय

Chapter 11.indd 124 26-08-2019 12:45:44

2020-21

वाच्‍य परिवर्तन 125

इन वाक्‍यों में क्रमश: गहमृ , पाठ: तथा ् चित्रे कर्म हैं। अत: प्रथम दो वाक्‍यों

में कर्म के एकवचन के अनसार

ु ि‍क्रया भी एकवचन में तथा तीसरे में चित्रे में

द्विवचन के कारण क्रिया भी द्विवचन में प्रयक्ु‍त है।

3. भाववाच्‍य

भाववाच्‍य के कर्ता में तती

ृ या विभक्ति का प्रयोग होता है। भाववाच्‍य में क्रिया

का अर्थया भाव ही प्रधान होता है, क्रिया प्रथम परुष

ु एकवचन में ही प्रयक्ु‍त

होती है। भले ही कर्ता एकवचन में हो या बहु

वचन में।

यथा— (मया / त्‍वया / यवुाभ्‍याम / अा

् वाभ्‍यां / अस्‍माभि: / तै:) सप्‍यते

/ आस्‍यते।

वाच्‍य परिवर्तन के नियम— कर्तृव ाच्‍य में वर्तमानकाल की क्रियाओ को ं

यदि कर्मवाच्‍य में परिवर्तित किया जाता है तो क्रियाओ में ं इस प्रकार परिवर्तन

होता है।

उदाहरण—

करतृवाच्‍य की

् क्रिया — कर्मवाच्‍य / भाववाच्‍य की क्रिया

पठति — पठ्यते

लिखति — लिख्‍यते

खादति — खाद्यते

भवति — भयूते

धावति — धाव्‍यते

हसति — हस्‍यते

करोति — क्रियते

क्रीणाति — क्रीयते

नयति — नीयते

गच्‍छति — गम्‍यते

उत्‍पतति — उत्‍पत्‍यते

रोदिति — रुद्यते

Chapter 11.indd 125 02-Apr-19 10:12:10 AM

2020-21

126 व्‍याकरणवीथि:

भतका

ू ल की क्रियाओ में ं कर्तृव ाच्‍य में जहाँ 'क्‍तवत' प्रत्‍य ु य का प्रयोग होता

है, वहाँ कर्मवाच्‍य में 'क्‍त'

393
Siralis
For answers need to register.
Contacts
mail@expertinstudy.com
Feedback
Expert in study
About us
For new users
For new experts
Terms and Conditions